जवान के साथ बदसलूकी पर, क्रिकेटरों के तेवर सख्त। सरकार ने भी दिए नए कदम उठाने के संकेत..

वॉट्स अप पर एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें कश्मीरी नौजवान सेना के साथ बदसलूकी करते नज़र आ रहे हैं। उन पर लात तो कभी हाथ चला रहे हैं लेकिन हमारे सी आर पी एफ के जवान जो हाथों में रायफल लिये हुए थे, जब चाहते तब सबको तार तार करने का दम रखते थे वहां से शांति और धैर्य का परिचय देते हुए चले गए। इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं था कि वे डरे थे कारण महज़ इतना था कि उनको EVM को सुरक्षित हाल में उसकी जगह पर पहुंचाना था।
कुछ दिन पहले ही जिन लोगों को सेना के जवानों ने अपनी जान की परवाह किए बिना मौत के मूंह से बचाया था आज उनका ये कारनामा अहसानफरामोशी की जीती जागती तस्वीर है।
क्रिकेटर गौतम गंभीर ने ट्वीट के ज़रिए अपना गुस्सा ज़ाहिर किया उन्होंने लिखा,“जवान को पड़ने वाले 1 चांटे पर लगभग 100 जिहादियों को मौत के घाट उतार देना चाहिए। जिस किसी को आजादी चाहिए, वह छोड़कर जा सकता है कश्मीर हमारा है।”
दूसरे ट्वीट में गंभीर ने लिखा “कि शायद एंटी-नेशनल लोग भूल गये हैं कि हमारे तिरंगे का मतलब क्या है। गंभीर ने लिखा कि केसरिया मतलब हमारे गुस्से की आग, सफेद मतलब जिहादियों के लिए कफन और हरा मतलब आतंक के लिए घृणा।”
सुप्रीम कोर्ट में अफ्सपा को लेकर भी काफी गहमा गहमी है। अफ्सपा कानून के चलते भारतीय सेना के पास कई विशेष अधिकार प्राप्त हो जाते हैं। इन अधिकारों को कम करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में बहस जारी है। लेकिन इस वीडियो के सामने आने से यह मुद्दा तूल पकड़ चुका है इस पर केंद्र सरकार की ओर से अर्टानी जनरल मुकुल रोहतगी का कहना है कि “सेना के अधिकारों को घटाने की नहीं बढ़ाने की ज़रुरत है, जिससे सेना इस तरह के उपद्री पत्थरबाजों से निपट सकें वरना आगे आने वाले समय में दिक्कतों को सामना करना पड़ सकता है।”
इससे साफ ज़ाहिर होता है कि सरकार अब इन पत्थरबाजों से निपटने के लिए सेना को खुली छूट देगी जिससे आगे आने वाले समय में किसी प्रकार की दिक्क्तों का सामना ना करना पड़े।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s